नई दिल्ली: दुनिया में आज जो हो रहा है, वो आने वाले कल के लिए इतिहास होगा, जो कल हो चुका है, वो आज के लिए इतिहास है. इतिहास के पन्नों को जब भी हम पलटेंगे, कुछ घटनाएं हमें गौरवशाली होने का अहसास कराएंगी, लेकिन कुछ हमें अतीत की गलतियों पर पछतावा भी कराएंगी. आज के इतिहास में भी कुछ ऐसा ही है.  

स्वामी विवेकानंद का शिकागो में भाषण
आज ही के दिन वर्ष 1893 में स्वामी विवेकानंद ने शिकागो के विश्व धर्म सम्मेलन में एक मशहूर भाषण दिया था. उन्होंने भारत के आध्यात्मिक विचारों को दुनिया के सामने रखा था.. अपने भाषण में स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि उन्हें हिंदू धर्म का अनुयायी होने पर गर्व है. शायद कम लोगों को ये पता हो कि Indian Institute of Science की स्थापना के पीछे स्वामी विवेकानंद की प्रेरणा है. धर्म संसद में शामिल होने के लिए स्वामी विवेकानंद जिस समुद्री जहाज से अमेरिका जा रहे थे, उसी में उनकी मुलाकात उद्योगपति जमशेतजी टाटा (Jamsetji Tata) से हुई. उसी दौरान विवेकानंद ने उन्हें युवाओं के लिए एक वैज्ञानिक अनुसंधान संस्थान खोलने की सलाह दी थी. 1909 में जमशेतजी टाटा और मैसूर के राजा कृष्ण राज वाडियार ने मिलकर Indian Institute of Science की स्थापना की थी.

विनोबा भावे का जन्म
1895 में आज ही के दिन स्वतंत्रता सेनानी और सामाजिक कार्यकर्ता विनोबा भावे (Vinoba Bhave) का जन्म हुआ था. उन्हें महात्मा गांधी का आध्यात्मिक उत्तराधिकारी माना जाता है. विनोबा भावे ने ही भूदान आंदोलन की शुरुआत की थी. जिसमें जमींदारों से गरीबों को जमीन देने की अपील की जाती थी. विनोबा भावे कम्युनिटी लीडरशिप के लिए Ramon Magsaysay Award जीतने वाले पहले व्यक्ति थे. उन्हें 1983 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था.

अमेरिका पर 9/11 का हमला
वर्ष 2001 में आज ही के दिन अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर (World Trade Centre) और पेंटागन पर आतंकवादी हमला हुआ था. इस हमले को 9/11 का आतंकवादी हमला कहा जाता है. इस हमले के लिए अल-कायदा ने चार यात्री विमान हाईजैक किए थे और उनमें से दो को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर क्रैश करा दिया था, इसके अलावा आतंकवादियों ने तीसरे विमान को पेंटागन पर क्रैश करवा दिया था. इस हमले में करीब तीन हज़ार लोग मारे गए थे. 9/11 हमले को दुनिया का सबसे बड़ा आतंकवादी हमला माना जाता है, और आतंकवादी ओसामा बिन लादेन इस हमले का मास्टरमाइंड था.

पूर्व क्रिकेटर लाला अमरनाथ का जन्म
आज ही के दिन वर्ष 1911 में भारतीय क्रिकेट के दिग्गज खिलाड़ी लाला अमरनाथ (Lala Amarnath) का जन्म हुआ था. लाला अमरनाथ ने 1933 में अपने टेस्ट करियर के पहले ही मैच में ही इंग्लैंड के खिलाफ सेंचुरी बनाई थी. ये पहला मौका था जब किसी भारतीय क्रिकेटर ने टेस्ट सेंचुरी बनाई थी. लाला अमरनाथ भारत के पहले टेस्ट कैप्टन थे. उन्होंने अपनी बॉलिंग से एक मैच में इतना दबाव बनाया था कि महान बल्लेबाज डॉन ब्रैडमैन (Don Bradman) भी हिट विकेट हो गये थे. डॉन ब्रैडमैन को इस तरह आउट करने वाले वो इकलौते गेंदबाज थे. थे. 

महादेवी वर्मा का निधन 

वर्ष 1987 में आज ही के दिन हिन्दी साहित्य की सर्वश्रेष्ठ कवयित्रियों में से एक महादेवी वर्मा का निधन हुआ था. महादेवी वर्मा को हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक माना जाता है. उन्हें अपने दौर की मीरा भी कहा जाता था. 1939 में प्रकाशित महादेवी वर्मा के कविता संग्रह दीपशिखा को क्लासिक माना जाता है. खास बात ये है कि महादेवी वर्मा अच्छी चित्रकार भी थीं. उन्होंने अपनी कई रचनाओं के लिए खुद ही चित्र भी बनाए थे. गिल्लू, नीलकंठ और मेरे बचपन के दिन उनकी कुछ यादगार कहानियां हैं. महादेवी वर्मा को ज्ञानपीठ पुरस्कार, साहित्य अकादमी पुरस्कार और पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था

ये भी पढ़ें: Rhea Chakraborty जेल में ही रहेंगी या निकलेंगी बाहर? आज आएगा फैसला 

LIVE TV





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here